Tuesday, June 29, 2010

पृथ्वी पर इस्लाम का समय अब पूरा हो चुका है ?

अमेरिका में कार बम विस्फोट के सिलसिले में पाक-अमेरिकी नागरिक गिरफ्तार. ये कुछ दिनों पहले की खबर है और इस तरह की खबरें अमूमन हर थोड़े दिन में सुनने में आती हैं. दुनिया धीरे-धीरे दो भागों में बंटती जा रही है - एक इस्लामिक और एक गैर-इस्लामिक. ये सच है कि हर मुसलमान आतंकवादी नहीं होता और ये भी सच है कि दुनिया का 8० फीसदी आतंकवाद इस्लामिक आतंकवाद है. मेरी बात को अन्यथा कतई न लिया जाए, मैं एक धर्म के रूप में इस्लाम का सम्मान करता हूँ. मैं पैगम्बर मोहम्मद के जीवन से वाकिफ हूँ. मोहम्मद का पूरा जीवन लड़ाइयों में बीता लेकिन फिर भी उनका सन्देश शांति और भाईचारे का था. लडाइयां उनकी मजबूरी थी क्योंकि वो समय, वो परिस्थितियाँ कुछ और थी. आदमी जंगली था और आपसी लड़ाइयों में उलझा हुआ था, उसे एकजुट करने के लिए उन्होंने सबको जीता. लेकिन समय बदलने के साथ बहुत सी चीज़ें बेकार हो जाती हैं, सिर्फ वस्तुएं ही नहीं, विचार और क़ानून-कायदे भी बेकार हो जाते हैं. वो समय कब का बीत चुका. उस समय की दुनिया और आज की दुनिया में ज़मीन-आसमान का फर्क आ चुका है लेकिन इस्लाम के अनुयायी इसे स्वीकार करने से इनकार करते हैं, वे वक़्त के साथ चलने को अधर्म मानते हैं. वे आज भी वही जंगली और बर्बर जीवन शैली अपनाए रहना चाहते हैं. उनका समय, उनके विचार जड़ हो गए हैं, एक ही जगह रुक गए हैं और बहता पानी अगर रुक जाए तो वो सड़ जाता है. यही हुआ है. गैर-इस्लामिक लोग अगर इस्लाम को न समझ पायें तो बात समझ में आती है लेकिन इस्लाम का दुर्भाग्य ये है कि उसके अनुयायी ही उसे नहीं समझ पाए. आज क्या इस्लामिक और क्या गैर इस्लामिक सब उसे जिहाद का पर्याय ही मानते हैं मानो अगर क़त्ले-आम न हो तो वो इस्लाम ही नहीं है. मैं ऐसा नहीं कहता कि सभी मुस्लिम उसे जिहाद मानते हैं लेकिन ऐसा मानने वालों की तादाद बहुत ज्यादा है और समझ वालों की कम वरना पढ़े-लिखे और अच्छे घरों के नौजवान क्यों आतंकवादी बनाते. इस्लाम अपने शुद्ध रूप में खूबसूरत है लेकिन उस शुद्ध रूप को समझने वाले लोग कब के ख़त्म हो चुके जिस तरह अब हिन्दू धर्म के शुद्ध रूप को समझने वाले लोग भी कम होते जा रहे हैं. आज जो संस्कृति का झंडा उठाये हुए हैं वे कपड़ों को ही धर्म समझते हैं। उन्हें उसके उच्च मूल्यों का ज्ञान तो दूर, आभास भी नहीं है. वे ठीक इस्लामिक आतंकवादियों की कार्बन-कॉपी होते जा रहे हैं. खैर, हमारा विषय ये नहीं है, बात हो रही है इस्लाम की. सोचने वाली बात ये है कि अब जब दुनिया आगे की ओर बढ़ रही है ऐसे में इस्लाम का ये पिछड़ापन उसके लिए चुनौती है. कोशिश की जा सकती है कि उन्हें इस्लाम का सही अर्थ समझ में आये लेकिन जड़ हो चुकी बुद्धि में कुछ भी उतरना लगभग असंभव हो जाता है. तो क्या ऐसा कहा जा सकता है कि पृथ्वी पर इस्लाम का समय अब पूरा हो चुका है, उसे जो भलाई इंसान की करनी थी वो उसने कर दी और अब सिर्फ नुकसान ही उसकी झोली में बचा है जो उसके अपने ही लोगो ने डाला है.
इस्लामिक संस्कृति ने हमें बहुत सी खूबसूरत चीज़ें दी हैं इसमें कोई शक नहीं. बहुत सी समृद्ध कलाएं जैसे भवन निर्माण जिसका बेहतेरीन नमूना ताजमहल है. लेकिन ये सब इतिहास बन चुका है, मौजूदा स्थितियों में वो कुछ भी रचनात्मक नहीं दे रहा है बल्कि जो कुछ भी रचनात्मक है उसे ख़त्म कर रहा है.
इन परिस्थितियों में दो ही बातें हो सकती हैं, या तो मुस्लिम धर्म के कुछ ऐसे नुमाइंदे सामने आएं जो दुनिया को उसका सही मतलब समझाएं और उसे तरक्की के रास्ते पर ले जाएँ या फिर इस्लाम शांतिपूर्वक दुनिया से विदा हो जाए क्योंकि आखिर में जो बात मायने रखती है वो ये है कि इंसानियत बचनी चाहिए. मैं जानता हूँ कि मेरी बात व्यावहारिक नहीं है लेकिन फिर भी वो एक रास्ता तो है और एक बार बात सामने आ जाए तो पता नहीं कब वो जोर पकड़ ले. सारे फसाद की जड़ ये है कि धर्म को ज़रुरत से ज्यादा संजीदा बना दिया गया है. आखिर धर्म क्या है? वो जीने का एक तरीका है, या यूँ कहें कि शांतिपूर्वक जीने का तरीका है, अगर उसका ये बुनियादी उद्देश्य ही पूरा नहीं हो रहा है तो फिर वो क्यों है? एक बच्चा जब पैदा होता है तो वो किसी धर्म को साथ लेकर नहीं आता. सदियों पहले की दुनिया आज की तरह नहीं थी. तब लोग इस तरह जुड़े हुए नहीं थे. सबने अपनी-अपनी जगहों और परिस्थितियों के अनुसार अपने धर्म बनाए. आज पूरी दुनिया बहुत पास-पास आ गई है. ऐसे में बहुत सारे मतभेदों के साथ नहीं रहा जा सकता. जीने के नए रास्ते अपने आप सामने आते रहेंगे और ये इंसान को ही तय करना है कि कौन सा रास्ता इंसानियत के हक में है जिसे मंज़ूर किया जाए और किसे नकार दिया जाए. एक खूबसूरत सा ख़याल ये भी है कि सभी धर्मों की अच्छाइयों को लेकर एक विश्व-धर्म बने जिसे पूरी दुनिया के लोग माने तो दुनिया कितनी सुखी और सुन्दर हो.आखिर हर इंसान अदृश्य तारों से आपस में जुड़ा है, एक ही उर्जा ने सबको बाँध रखा है फिर अगर मनुष्यता का एक हिस्सा दूसरे को आहत करता है तो वो खुद भी चैन से कभी नहीं रह सकता.

अनिरुद्ध शर्मा

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

16 बैठकबाजों का कहना है :

रंजन का कहना है कि -

लगता तो ये ही है...

निर्मला कपिला का कहना है कि -

आखिर हर इंसान अदृश्य तारों से आपस में जुड़ा है, एक ही उर्जा ने सबको बाँध रखा है फिर अगर मनुष्यता का एक हिस्सा दूसरे को आहत करता है तो वो खुद भी चैन से कभी नहीं रह सकता.
सार्थक संदेश देता आलेख । धन्यवाद।

Prem Chand Sahajwala का कहना है कि -

1. लेख में इस बात से तो मैं सहमत हूँ कि कतिपय मुस्लमान अपने ही धर्म को समझने में असमर्थ हैं. पर शीर्षक में यह कहना कि पृथ्वी पर इस्लाम का समय अब पूरा हो चुका है. किसी भी धर्म को हम शाश्वत मानते हैं और उस के समाप्तप्राय होने की घोषणा अनुचित है. 2. मुहम्मद ने अपने समय सैकड़ों सुधार किये. मक्का में उस समय स्थति यह थी कि 'काबा' जो आज सब से बड़ी मस्जिद है, में 360 मूर्तियां थी और वे सब पैसा कमाने या लूटने तक का ज़रीया बानी हुई थी. जैसे आज मथुरा में बैठा हर पंडित दुकानदार लगता है वैसा ही हाल मक्का का भी था. लोगों से ज़बरदस्ती भी चढावे चढवाए जाते थे. लोंग पाने की बजाय रेत से नहाते थे और अपनी अँगुलियों के बीच एक खेल की तरह रेत को टिका कर अंदर मूर्तियों तक जाते थे. विशेष दिनों पर पूरे के पूरे परिवार सारे कपडे उतार कर परिक्रमा करते थे. मुहम्मद ने रेत की जगह पानी का इस्तेमाल सिखाया तथा परिक्रमा आज मुस्लिम लोंग हज के समय दो सफ़ेद वस्त्र पहन कर सभ्य तरीके से करते हैं. मुहम्मद ने उस समय की सब से कमाऊ 'तीन देवियाँ' समेत सब की सब मूर्तियां हटा दी थी.

डा. अरुणा कपूर. का कहना है कि -

कोई भी धर्म कभी गलत शिक्षा नहीं देता...गलत लोग, गलत आचरण द्वारा अपने अपने धर्मो की इज्जत पर कुठाराघात करतें है!... इस्लाम धर्म की रक्षा करने वाले नेक दिल इन्सान आज भी अपना कर्तव्य निभा रहे है!...इस्लाम धर्म की सुरक्षा के लिये, गलत लोगों की हरकतों पर अंकुश लगाना होगा!....

Anonymous का कहना है कि -

धर्म का उद्देश्य - मानव समाज में सत्य, न्याय एवं नैतिकता (सदाचरण) की स्थापना करना ।
व्यक्तिगत धर्म- सत्य, न्याय एवं नैतिक दृष्टि से उत्तम कर्म करना, व्यक्तिगत धर्म है ।
सामाजिक धर्म- मानव समाज में सत्य, न्याय एवं नैतिकता की स्थापना के लिए कर्म करना, सामाजिक धर्म है । ईश्वर या स्थिर बुद्धि मनुष्य सामाजिक धर्म को पूर्ण रूप से निभाते है ।
धर्म संकट- सत्य और न्याय में विरोधाभास की स्थिति को धर्मसंकट कहा जाता है । उस स्थिति में मानव कल्याण व मानवीय मूल्यों की दृष्टि से सत्य और न्याय में से जो उत्तम हो, उसे चुना जाता है ।
धर्म को अपनाया नहीं जाता, धर्म का पालन किया जाता है । धर्म के विरुद्ध किया गया कर्म, अधर्म होता है ।
व्यक्ति के कत्र्तव्य पालन की दृष्टि से धर्म -
राजधर्म, राष्ट्रधर्म, मनुष्यधर्म, पितृधर्म, पुत्रधर्म, मातृधर्म, पुत्रीधर्म, भ्राताधर्म इत्यादि ।
धर्म सनातन है भगवान शिव (त्रिदेव) से लेकर इस क्षण तक व अनन्त काल तक रहेगा ।
धर्म एवं उपासना द्वारा मोक्ष एक दूसरे आश्रित, परन्तु अलग-अलग है । ज्ञान अनन्त है एवं श्रीमद् भगवद् गीता ज्ञान का सार है ।
राजतंत्र में धर्म का पालन राजतांत्रिक मूल्यों से, लोकतंत्र में धर्म का पालन लोकतांत्रिक मूल्यों के हिसाब से किया जाता है ।
कृपया इस ज्ञान को सर्वत्र फैलावें । by- kpopsbjri

Anonymous का कहना है कि -

वर्तमान युग में पूर्ण रूप से धर्म के मार्ग पर चलना किसी भी आम मनुष्य के लिए कठिन कार्य है । इसलिए मनुष्य को सदाचार एवं मानवीय मूल्यों के साथ जीना चाहिए एवं मानव कल्याण के बारे सोचना चाहिए । इस युग में यही बेहतर है ।

sandeep का कहना है कि -

ना ही तो इस्लाम कोई धर्म है और ना कुरान कोई इश्वरिये ग्रन्थ और ना मोहम्द कोई पगेम्बैर मोहम्मद ने अपनी लूट को जायज़ ठहराने और अपने काबिले के देवता "अल्लाह " को सबसे ऊँचा दर्ज़ा दिलवाने के लिए कुरान नाम की एक मौकापरस्त और मनघडत किताब की रचना की थी

sabr khan का कहना है कि -

allha hi sab ka malik hai vishvash nhi hai to kayamat kai din aapko pata chal jayaga mohammad / pegmbar ke dhra btaye raste par chlo nhi to dojak milege ALLHA sare jaan ka malik hai uska shukar gujar karo kuran shrif allha ke hukam se friste jibrael alesalam ke share duniya me bheje the y manghad kehnewalo ko ALLHA maf kar dena y nasamj ke hai ALLHA HU AKBAR AAMEN

Nafees Malik का कहना है कि -

Gallt

Nafees Malik का कहना है कि -

इस्लाम को आंतकवादी बोलते हो। जापान मे तो अमेरिका ने परमाणु बम गिराया लाखो बेगुनाह मारे गये तो क्या अमेरिका आंतकवादी नही है। प्रथम विश्व युध्द मे करोडो लोग मारे गये इनको मारने मे भी कोई मुस्लिम नही था। तो क्या अब भी मुस्लिम आंतकवादी है। दूसरे विश्व युध्द मे भी लाखो करोडो निर्दोषो की जान गयी इनको मारने मे भी कोई मुस्लिम नही था। तो क्या मुस्लिम अब भी आंतकवादी हुए अगर नही तो फिर तुम इस्लाम को आंतकवादी बोलते कैसे हो। बेशक इस्लाम शान्ति का मज़हब है।और हाॅ कुछ हदीस ज़ईफ होती है।ज़ईफ हदीस उनको कहते है जो ईसाइ और यहूदियो ने गढी है। जैसे मुहम्मद साहब ने 9 साल की लडकी से निकाह किया ये ज़ईफ हदीस है। आयशा की उम्र 19 साल थी। ये उलमाओ ने साबित कर दिया है। क्योकि आयशा की बडी बहन आसमा आयशा से 10 साल बडी थी और आसमा का इंतकाल 100 वर्ष की आयु मे 73 हिज़री को हुआ। 100 मे से 73 घटाओ तो 27 साल हुए।आसमा से आयशा 10 साल छोटी थी तो 27-10=17 साल की हुई आयशा और आप सल्ललाहु अलैही वसल्लम ने आयशा से 2 हिज़री को निकाह किया।अब 17+2=19 साल हुए। इस तरह शादी के वक्त आयशा की उम्र 19 आप सल्ललाहु अलैही वसल्लम की 40 साल थी इन हिन्दुओ का इतिहास द्रोपती ने 5 पांडवो से शादी की क्या ये गलत नही है हम मुसलमान तो 11 औरते से शादी कर सकते है ऐसी औरते जो विधवा हो बेसहारा हो। लेकिन क्या द्रोपती सेक्स की भूखी थी। और शिव की पत्नी पार्वती ने एक लडके को जन्म दिया शिव की गैरमूजदगी मे। पार्वती ने फिर किसकी साथ सेक्स किया ।इसलिए शिव ने उस लडके की गर्दन काट दी क्या भगवान हत्या करता है ।श्री कृष्ण गोपियो नहाते हुए क्यो देखता था और उनके कपडे चुराता था जबकि कृष्ण तो भगवान था क्या भगवान ऐसा गंदा काम कर सकता है । महाभारत मे लिखा है कृष्ण की 16108 बीविया थी तो फिर हम मुस्लिमो एक से अधिक शादी करने पर बुरा कहा जाता । महाभारत युध्द मे जब अर्जुन हथियार डाल देता तो क्यो कृष्ण ये कहते है ऐ अर्जुन क्या तुम नपुंसक हो गये हो लडो अगर तुम लडते लडते मरे तो स्वर्ग को जाओगे और अगर जीत गये तो दुनिया का सुख मिलेगा। तो फिर हम मुस्लिमो को क्यो बुरा कहा जाता है हम जिहाद बुराई के खिलाफ लडते है अत्यचारियो और आक्रमणकारियो के विरूध वो अलग बात है कुछ मुस्लिम जिहाद के नाम पर बेगुनाहो को मारते है और जो ऐसा करते है वे मुस्लिम नही हैक्योकी आल्लाह पाक कुरान मे कहते है एक बेगुनाह का कत्ल सारी इंसानयत का कत्ल है। और सीता की बात करू तो राम तो भगवान थे क्या उनमे इतनी भी शक्ति नही कि वे सीता के अपहरण को रोक सके जब राम भगवान थे तो रावण की नाभि मे अमृत है ये उनको पहले से ही क्यो नही पता था रावण के भाई ने बताया तब पता चला। क्या तुम्हारे भगवान राम को कुछ पता ही नही कैसा भगवान है ये।और सीता को घर से बाहर निकाल दिया गया था तो लव कुश कहा से आये किससे सेक्स किया सीता ने बताओ।और इन्द्र देवता ने साधु का वेश धारण कर अपनी पुत्रवधु का बलात्कार किया फिर भी आप देवता क्यो मानते हो। खुजराहो के मन्दिर मे सेक्सी मानव मूर्तिया है क्या मन्दिर मे सेक्स की शिक्षा दी जाती है मन्दिरो मे नाच गाना डीजे आम है क्या ईश्वर की इबादत की जगह गाने हराम नही है ।राम ने हिरण का शिकार क्यो किया बहुत से हिन्दु कहते है हिरण मे राक्षस था तो क्या आपके राम भगवान मे हिरण और राक्षस को अलग करने की क्षमता नही थी ये कैसा भगवान है।हमे कहते हो जीव हत्या पाप है मै भी मानता हू कुत्ते के बेवजह मारना पाप है ।कीडी मकोडो को मारना पाप है पक्षियो को मारना पाप है। लेकिन ऐसे जानवर जिनका कुरान मे खाना का जिक्र है खा सकते है क्योकि मुर्गे कटडे बकरे नही खाऐगे तो इनकी जनसख्या इतनी हो जायेगी बाढ आ जायेगी इन जानवरो की। सारा जंगल का चारा ये खा जाया करेगे फिर इन्सान के लिए क्या बचेगा। हर घर मे कटडे बकरे होगे। बताओ अगर हर घर मे भैंसे मुर्गे होगे तो दुनिया कैसे चल पाऐगी। आए दिन सिर्फ हिन्दुस्तान मे लाखो मुर्गे और हजारो कटडे काटे जाते है । 70% लोग मांस खाकर पेट भरते है । सब को शाकाहारी भोजन दिया जाये तो महॅगाई कितनी हो जाएगी। समुद्री तट पर 90% लोग मछली खाकर पेट भरते है। समझ मे आया कुछ शाकाहारी भोजन खाने वालो मांस को गलत कहने वाले हिन्दुओ अक्ल का इस्तमाल करो

Nafees Malik का कहना है कि -

हिन्दु धर्म मे शिव भगवान ही नसेडी है तो उसके कावडिया भी नसेडी। जितने त्योहार है हिन्दुओ के सब बकवास।होली को लेलो मानते है भाईचारे का त्योहार होली पर शराब पिलाकर एक दुसरे से दुश्मनी निकाली जाती है।होली से अगले दिन अखबार कम से कम 100 लोगो के मरने की पुष्टि करता है ।अब दीपावली को देखलो कितना प्रदुषण बुड्डे बीमार बुजुर्गो की मोत होती है। पटाखो के प्रदुषण से नयी नयी बीमारिया ऊतपन होती है। गणेशचतुर्थी के दिन पलास्टर ऑफ पेरिस नामक जहरीले मिट्टी से बनी करोडो मूर्तिया गंगा नदियो मे बह दी जाती है। पानी दूषित हो जाता है साथ ही साथ करोडो मछलिया मरती है तब कहा चली जाती है इनकी अक्ल जीव हत्या तो पाप हैहम मुस्लिमो को बोलते है चचेरी मुमेरी फुफेरी मुसेरी बहन से शादी कर लेते हो। इन चूतियाओ से पूछो बहन की परिभाषा क्या होती है मै बताता हू साइंस के अनुसार एक योनि से निकले इन्सान ही भाई बहन हो सकते है और कोई नही। तुम भाई बहन के चक्कर मे रह जाओ इसलिए हिन्दु लडको की शादिया भी नही होती अक्सर । हमारे बनत नाम के गाव मे 300 जाट के लडके रण्डवे है शादी नही होती फिर उनका सेक्स का मन करता है वे फिर लडकियो महिलाओ की साथ बलात्कार करते है ये है हिन्दु धर्म । और सबूत हिन्दुस्तान मे अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा रेप होते है । किसी मुस्लिम मुल्क का नाम दिखा दो या बता दो बता ही नही सकते। तुम्हारे हिन्दुओ लडकियो को कपडे पहनने की तमीज नही फिटिंग के कपडे छोटे कपडे जीन्स टीशर्ट आदि पहननती है ।भाई बाप के सामने भी शर्म नही आती तुमको ऐसे कपडो मे थू ऐसे कपडो मे को देखकर तो सभी इन्सानो की ऑटोमेटिकली नीयत खराब हो जाती है इसलिए हिन्दु और अंग्रेजी लडकियो की साथ बलात्कार होते हे इसके लिए ये लडकिया खुद जिम्मेदार है।।और हिन्दु लडकियो के हाथ मे सरे आम इंटरनेट वाला मोबाइल उसमे इतनी गंदी चीजे थू और लडकियो को पढाते इतने ज्यादा है जो उसकी शादी भी ना हो पढी लिखी को स्वीकार कौन करता है जल्दी से पढने का तो नाम है घरवालो के पैसे बरबाद करती है और लडको की साथ अय्याशी करती है उन बेचारो का टाइम वेस्ट। इन चूतियाओ से पूछो लडकि इतना ज्यादा पढकर क्या करेगी।मर्द उनके जनखे हो जो औरत कमाऐगी मर्द बैठकर खाऐगे।सही कहू तो मर्दो की नौकरिया खराब करती है जहा मर्द 20000 हजार रूपये महीने की माॅग करे वहा लडकिया 2000 मे ही तैय्यार हो जाती हैबहुत हिन्दु गर्व के साथ कहते है कि हमारी गीता मे लिखा है कि ईश्वर कण कण मे विध्मान है ।सब चीजे मे है इसलिए हम पत्थरो को पूजते है और भी बहुत सारी चीजो को पूजते है etc. लेकिन मै कहूगा इनकी ये सोच बिल्कुल गलत है क्योकि अगर कण कण मे भगवान है तो क्या गू गोबर मे भी है आपका भगवान। जबकि भगवान या खुदा तो पाक साफ है तो कण कण मे कहा से विध्मान हुआ भगवान। इसलिए मै आपसे कहना चाहता हू भगवान हर चीज मै नही है बल्कि हर चीज उसकी है और वो एक है इसलिए पूजा पाठ मूर्ति चित्र सब गलत है कुरान अल्लाह की किताब है इसके बताये गये रास्ते पर चलो। सबूत भी है क्योकि कुरान की आयते पढकर हम भूत प्रेत बुरी आत्माओ राक्षसो से छुटकारा पाते है।हमारी मस्जिद मे बहुत हिन्दु आते है ईलाज करवाने के लिए । और मौलवी कुरान की आयते पढकर ही सभी को ठीक करते है । इसलिए कुरान अल्लाह की किताब है । जबकि आप वेदो मंत्रो से दसरो को नुकसान पहुचा सकते है अच्छाई नही कर सकते किसी की और सभी भगत पंडित जादू टोना टोटके के अलावा करते ही क्या है। जबकि कुरान से अच्छाई के अलावा आप किसी के साथ बुरा कर ही नही सकते। इसलिए गैर मुस्लिमो कुरान पर ईमान लाओ।

Anonymous का कहना है कि -

ham apne tevharo me masoom janvaro ki jaan nahi lete hai.
america ne chori se hamla nahi kiya tha japana pe.
tumahare muhammad ke uncle kiski pooja karte the.
muhammad duniya ka pehala homosexula tha.

tum log har non-muslim ko katuya nanane me lage go bas

Anonymous का कहना है कि -

झूठ के बोझ को संभालने के लिए मुसलमान कैसे रात दिन एक कर देते है ,एक आनलाइन डिबेट मे इसका नमूना देखिए :-
. 1) इस्लाम की पोल खुलने पर सबसे पहले मुस्लिम बोलते है कि ये सब तथ्यहीन आधारहीन है ,अज्ञानता है ,इस्लाम मे कोई जबरदस्ती नही है! अगर आप रैफरेंस देंगे वो सिरे से नकार देंगे और आपको पूरी तरह कुरान स्टड़ी करने को बोला जायेगा तभी रोशनी मिलेगी ! .
2)अगर आप कुरान और हदीसो के हवाले देंगे तो आपको बोलेगे कि तुमने आयते अधूरी समझी है ,आयतो को गलत संदर्भ मे लिया है और उन आयतो मे लडाई का मतलब उस समय के युद्ध से था । (यानि इससे मुस्लिम यह दिखाना चाहते है कि अब हम दुनियाभर मे जेहाद नही कर रहे है) .
3)अगर आप संपूर्ण आयतो और हदीसो का हवाला देंगे तो वो कहेंगे आपका अनुवाद गलत है और आपको अरबी सीखने के साथ आरिजनल वर्जन पढ़ने को बोला जायेगा ! .
4)अगर आप कहेंगे कि आप अरबी भी जानते है साथ ही आपके पास प्रमाणित अनुवाद और सारी जानकारी उन्ही प्रमाणित रिसोर्स से है जिससे सर्वश्रेष्ठ मुस्लिम स्कालर्स हवाला देते है ,तो मुसलमान कहेंगे कि हदीसे पढ़ना भी जरूरी है ... अगर आप हदीस से सच साबित करेंगे तो वे कहेंगे कुरान ही एकमात्र सच है ! .
5)इन सबके बाद अगर आप जारी रखते है तो वे इस मुद्दे से बात घुमाने के लिये दूसरे टापिक उठायेंगे जैसे गरीबी ,इंसानियत ,शांति ,फिलिस्तीन ,इजराइल ,अमेरिका .
6)अगर आप कहेंगे कि कुरान इंसान ने लिखी है तो वे Dr Bucalie की किताब का हवाला देकर सुनिश्चित करेंगे कि कुरान मे विज्ञान भी है ! .
7)जबकि असल मे Dr bucalie सऊदी अरब से पैसे लिया करता था और Dr bucalie को कई विशेषज्ञो ने गलत और झूठा साबित कर दिया है ! .
8)अब फिर मुस्लिम बोलेंगे कि ये सब वैस्टर्न मीड़िया का प्रौपगेंड़ा है इस्लाम को बदनाम करने का ! .
9)अगर आप फिर भी सच सामने लायेंगे तो मुस्लिम कुतर्को पर उतर आएंगे और दूसरे मजहबो मे की किताबो मे कमियां निकालेंगे जैसे बाइबल ,तोराह ,वेद गीता आदि ! .
10)लेकिन हद तो यहा है कि जिन किताबो को ये नही मानते उन्ही किताबो मे ये अपने मोहम्मद जी को अवतार भी दिखायेंगे (जैसे वेदो मे मुहम्मद को दिखाना).. और इस्लाम को जबरदस्ती विज्ञान से जोड़गे! (मतलब किसी भी तरह से हर हाल मे इस्लाम और मौहम्मद जी की मार्केटिंग करते रहते है ! इस तरह ये हमेशा काफिरो को थकाकर और उलझा कर रखते है !) .
11)अगर आप न रूकेतो मुसलमान द्वारा आपको जाहिल झुठा ,कुत्ता ,जालिम वगैरह के साथ मां बहन की गाली और निजी हमले किये जायेंगे .. .
12)अब मुस्लिम रट्टा लगायेंगे कि "इस्लाम तेजी से फैल रहा है "लेकिन जैसे ही सच्चाई सामने लायी जाये तो ये चिल्ला भी पड़ेंगे "इस्लाम खतरे मे है !" .
13)अगर फिर भी आप असली मुद्दे पर अड़े रहेंगे तो मुसलमान बोलेंगे तुम जहुन्नम मे जाओगे ...आखिरी दिन तुम्हारा हिसाब होगा ...तुम पर अल्लाह का आजाब होगा ..अल्लाह तुम्हारे साथ ये कर देगा.. वो कर देगा ,वगैरह वगैरह! .
14)और आखिर मे जब सब फेल हो जायेगा तो अब मुसलमान धमकाने पर आ जायेंगे जैसे तुम्हे देख लूंगा,बचके रहना ,अपना नंबर और एड्रेस बताओ ! .
15)और आखिर मे डरकर बंदा चुप हो जायेगा तो ये ढोल पीटेंगे और कहेंगे कि हमने डिबेट जीत ली है ,इस्लाम जीत गया है ...इस्लाम जिंदाबा* !! . .
इसलिए मुसलमान ऊपर से जैसे भी हो पर उनके दिलोदिमाग मे ,नसो मे इस्लाम गूंजता रहता है ....! . आज दुनिया भर के मुसलमान चलते फिरते "Islamic Zombies"बन चुके है ,जो मौका मिलने पर अक्सर नारा लगाते है ... .
अल्लाह(शैतान)जिंदाबाद !... इस्लाम(अंधेरा )कायम रहे .

saint shri का कहना है कि -

Dharti par rakshso ke dharam ko banaya gaya sanatan dharam kav khatam nahi hoga

Anonymous का कहना है कि -

Har sikke ke do pahlu hote h usi tarah har dharm me kuchh achchhi baat to kuchh buri baat h lekin ham insaano pe depend karta h ki ham kis baat ko apne jeevan me utarte h....har koi dharm dharm chilla raha h ek doosre ko bura kah raha h....koi kisi k dharm ki achchhi baat saamne nahi Lata sirf burai karta h.....islam ko duniya buri nazar s isliye dekhti h kyonki inhone quran ki achchhi bato ko jeevan me nahi apnaya lekin maar kaat buri cheez aurato ko azadi na dena aadi baaton ko bahut aasani s apna liya h yadi har insaan insaaniyat apnaye to ye faltu ki baate internet per koi nahi karta......ek kahawat h ki bina aag lage dhuuaa nahi uthta thik usi tarah kuchh to problem h musalmano me jo puri duniya inhe bura kahti h...aur indian muslim kai baar ashfaq ullah khan aur abdul kalam ji ka example dekar khud achchha sabit Karne ki koshish Karte h unhone jis tarah s har dharm ka samman karte hue apna jeevan jiya agar saare musalman dil s har dharm ko utna samman de to har dharm k log apka bhi samman karenge....aur musalmano ko sirf kattarpanthi aur nafrat ki seekh di jaati h....isiliye inke masjid m kaba me namaz me gair muslim shamil nahi ho sakta kyonki inke maulviyon ki aur inke dharm ki sikchhhaaa ki asliyat ki pol khul jaayegi.....jabki baaki dharm me aisa nahi h......

Unknown का कहना है कि -

Sahi kaha aapne hindu bhatka hua hi sab ko bhagwan maan leta hi kisi ek ko bhagwan maanna chahiye aur woh hi sirf ek allah

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)