Sunday, June 27, 2010

दोहरी मानसिकता के शिकार हिंदी फिल्म समीक्षक और दर्शक

मैं कोई लेखक नहीं, कोई आलेखक भी नहीं, लेकिन हाँ अपनी बातों को यथासंभव (एक हद तक) रखने में यकीन रखता हूँ। मेरे पास सोचने-समझने की जो थोड़ी-सी शक्ति है, उसी की चहारदीवारी में विचारों की गुत्थम-गुत्थी, उठापटक चलती रहती है। दिन भर हर तरह के विचार दिमाग के कारखाने में कच्चे माल की तरह आते रहते हैं, लेकिन अमूमन यह कारखाना खराब हीं रहता है और इसलिए कभी-कभार हीं मैं किसी खास निष्कर्ष पर पहुँच पाता हूँ। फिर भी यह क्रम चलता रहता है क्योंकि मेरे हिसाब से अगर कोई कोशिश हीं न की जाए तो सफ़लता कहाँ से मिलेगी! सफलता हासिल करनी हो तो कारखाने के कल-पुर्जों को घिसना तो पड़ेगा हीं। घिसते-घिसते कोई एक पुर्जा तो होगा हीं जो हमारा काम कर जाएगा। वैसे भी कहते हैं कि दस बटेरों पर पत्थर चलाया जाए तो एक बटेर को तो हाथ आना हीं है। और जब कोई एक बटेर या कोई एक बात खुलकर सामने आ जाती है यानि कि जब मैं किसी मुद्दे पर पक्का हो जाता हूँ तो लगता है कि मैंने मैदान मार लिया हो, लगता है कि इसे औरों से भी बाँटा जाए। औरों को भी खबर की जाए कि आज मेरे पास क्या है। (मेरे पास माँ है...... के अंदाज में हीं) । सभी जानते हैं कि आज की दुनिया कितनी गतिशील, कितनी तेज-तर्रार है। इस आज की दुनिया में, अपने विचार रखने, अपनी सोच औरों से बाँटने के हज़ार तरीके हैं और इन हज़ार तरीकों में एक तरीका है आलेख लिखना। अब आप सोच रहे होंगे कि जहाँ मैंने शुरू में कहा कि "मैं कोई आलेखक नहीं", वहीं अभी "आलेख लिखने" की बात कर रहा हूँ। "आलेखक नहीं"- यह सच है, और इसलिए हो सकता है कि मैं इस आलेख के माध्यम से जो भी कुछ कहने जा रहा हूँ, उसमें सफल ना होऊँ (जिस तरह हज़ार चीजों पर माथा-पच्ची करने के बाद एकाध चीज हीं मेरे पल्ले पड़ती है, उसी तरह हज़ार शब्द उगल देने के बाद हो सकता है कि मेरा एकाध शब्द हीं मतलब का हो या फिर एक शब्द भी पल्ले पड़ने लायक न हो) , लेकिन यह तो मानना हीं पड़ेगा कि किसी से बिना मिले अपनी बात सब के बीच रखने का इससे अच्छा कोई तरीका नहीं। इसलिए दूसरा उपाय न पाकर डरते-डरते मैं "हिन्द-युग्म" के इस मंच "बैठक" पर आया हूँ।

कहने को मेरे पास बहुत सारी बातें हैं। औरों की तरह फिल्मों से गहरा लगाव हैं, इसलिए पहली बार तो यही सोचा कि क्यों ना फिल्मों पर हीं कुछ लिख लूँ। वैसे भी लोगों की समीक्षाएँ (मेरे एक मित्र के अनुसार फिल्मों के समीक्षक अब समीक्षक नहीं रहे, ये आलोचक हो गए हैं..... और आलोचक भी ऐसे आलोचक नहीं जो गुणों और अवगुणों पर बराबर की नज़र रखते हों, बल्कि ऐसे आलोचक जो बस आलोचना करना हीं जानते हैं यानि कि मौका मिला नहीं कि बुराईयों का पुलिंदा लेकर बैठ गए) पढ-पढकर मेरे मन में भी यह इच्छा घर कर गई थी कि मैं क्या किसी से कम हूँ... मैं भी फिल्मों पर अपना ज्ञान झाड़ सकता हूँ। जब लोग बिलावज़ह किसी फिल्म (पढें: रावण) की अंतड़ियाँ तक निकालने पर तुले हैं तो किसी भले मानुष की तरह क्या यह मेरा फ़र्ज़ नहीं बनता कि मैं इन कसाईयों के "हक़" पर प्रश्न-चिह्न खड़ा करूँ। खुद तो आज तक एक सीन (दृश्य) तक सही से उकेर नहीं पाए (सपने में भी) और दूसरों की मेहनत पर भर-भर के कीचड़ उछालते हैं। नाम न लूँगा लेकिन आप इस वाक्ये से समझ जाएँगे.... हमारे यहाँ के एक बहुत बड़े फिल्म-आलोचक हैं जिनकी मक़बूलियत बस इसी कारण से है कि उन्होंने "फ़िज़ा" बनाई थी। अब "फ़िज़ा" का क्या हश्र हुआ था और उन्हीं के भाई-बंधुऒं (दूसरे फिल्म-आलोचकों) ने इसे कितने "स्टार" दिए थे, ये तो जग-जाहिर है.... फिर उन्हीं महोदय ने जब "काईट्स" की समीक्षा की तो "ऋत्विक" की खूब टाँग खींची और "राजनीति" को तो "राज-नट्टी" हीं कह दिया... यहाँ तक कि उन्होंने "मनोज वाजपेयी" को भी नहीं छोड़ा... कहा कि काठ-जैसी सूरत बनाए घूम रहे थे वे पूरी फिल्म में। अब कोई उनसे पूछे कि उनकी "फिज़ा" में भी तो यही दो कलाकार थे। उस समय उन्होंने इन दोनों से क्या अलग, क्या जुदा करवाया था। और अगर कुछ अलग नहीं करवा पाए थे तो "अनुराग बसु" और "प्रकाश झा" को वो क्या दूसरी दुनिया के निर्देशक समझते हैं जो वो कोई "जादू" कर देंगे। ऐसे "दोहरी सोच" वाले लोग जब तक "समीक्षा" करते रहेंगे, तब तक हमारी फिल्मों का भला नहीं हो सकता।

माफ़ कीजिएगा .... मैं भावनाओं में बह गया और ना-ना कहते-कहते बहुत कुछ कह गया। हाँ, तो इसी तरह करने को कई सारी बातें हैं। अभी-अभी मैंने "दोहरी सोच" के बारे में कुछ कहा..... तो यह "दोहरी सोच" "दोहरी मानसिकता" बस फिल्म-समीक्षकों तक हीं सीमित नहीं है, हम दर्शकों के बीच भी इसने अपना मकाम हासिल किया हुआ है। इसका सबसे बढिया उदाहरण है "हिन्दी फिल्मों" में किसी दृश्य या किसी खास तरह की अदायगी (या अदाकारों) को नकारने वाले लोगों में "अंग्रेजी फिल्मों" के उन्हीं दृश्यों या अदायगी को पूजने की प्रथा। यह बीमारी तो आजकल हर "सुसभ्य" शहरी इंसान में देखी जा सकती है। हिन्दी फिल्म में अगर किसी ने कहा कि "मैं मैं हूँ" तो लगे नाक-भौं सिकोड़ने, लगे उसकी बघ्घियाँ उधेड़ने लेकिन अगर किसी अंग्रेजी फिल्म में (जो कि उन "सुसभ्य" लोगों को भी पहली मर्तबा समझ में नहीं आती .... मसलन मैट्रिक्स, प्राईमर) किसी बड़े-से "सुसभ्य" कलाकार (मान लीजिए "अल पचीनो") ने चिघ्घार कर कहा "दिस ईज द वे आई ऐम" तो वही नाक-भौं सिकोड़ने वाले लोग सारे शर्मो-हया भूलकर तालियों की गड़गड़ाहट में डूब जाते हैं.... उस समय किसी को भी यह ध्यान नहीं आता कि भाई "इसमें नया क्या है"....क्या यह इंसान तीस-मार खान है कि इसने उसी "बेकार"-से संवाद को "बेजोर" बना दिया है... मुझे तो नहीं लगता..... फिर ऐसा क्यों है कि "हिन्दी-फिल्म" मे जो चीज उन "सुसभ्य" लोगों को "ओवर-एक्टिंग" लगती है, जो सिचुएशन्स, जो प्रस्तुतिकरण उन्हें "ढपोल-शंख" लगते हैं, वही सारी चीजें "अंग्रेजी फिल्मो" में जाकर "ग्रेट एक्टिंग" और "मारवेलस थिंकिंग" बन जाती हैं। भला कितने लोग हैं यहाँ जिन्होंने "नो स्मोकिंग" देखी है... मेरे हिसाब से बहुत कम हीं लग होंगे। "नो स्मोकिंग" कैसी फिल्म थी... अच्छी या बुरी.... यहाँ यह सवाल नहीं है, सवाल यह है कि अगर आपने इसी तरह कि प्रयोगधर्मी कोई अंग्रेजी फिल्म (मसलन "टेरेन्टिनो" की "पल्प फिक्शन") पसंद की है तो आपको "नो स्मोकिंग" भी पसंद आनी चाहिए थी। पसंद आना तो बाद की बात है.... आपको इस फिल्म को एक "ट्राई" तो जरूर हीं देना था। अगर आपने ऐसा नहीं किया है तो आप मेरी बातों को "प्रूव" कर रहे हैं कि "दोहरी मानसिकता" हम सब के अंदर है...... है ना? इतना कुछ पढकर आप सोचने लगे होंगे कि मैं अंग्रेजी फिल्मों से खुन्नस खाए बैठा हूँ, इसलिए मौका मिलते हीं मैंने सारा भंड़ास निकाल दिया... तो मैं बताए देता हूँ कि "अंग्रेजी फिल्मों" से मेरी कोई दुश्मनी नहीं है...... ना हीं कोई खुन्नस है, हाँ "भंड़ास" जरूर है, लेकिन वो फिल्मों के लिए नहीं है, बल्कि हमारी "तथाकथित" "प्रगति" और "शहरीपन" के लिए है....... फिल्में तो बस एक बहाना है (मुझे समाज का सच दिखाना है....... हा हा)

जब फिल्मों की हीं बात चल निकली है तो ज्यादा दूर क्या जाना....... अंग्रेजी फिल्में तो "हिन्दुस्तान" में आयात (इम्पोर्ट) होकर आती हैं..... लेकिन जो फिल्में हिन्दुस्तान में हीं बनती हैं, उनसे भी तो बिना कारण भेदभाव बरता जाता है। जी हाँ मैं "क्षेत्रीय" फिल्मों की बात कर रहा हूँ। "क्षेत्रीय" फिल्मों में भी दो तरह की "क्षेत्रीय" फिल्में आती हैं। एक "उत्तर भारतीय" ("राज ठाकरे" साहब.... मैंने आपका कोई "कॉपी राईट" तो भंग नहीं किया? यह शब्द कहने का हक़ सबसे ज्यादा आपको हीं है, लेकिन "एकमात्र" आपको नहीं) और दूसरा "दक्षिण भारतीय"। "दक्षिण भारतीय" फिल्मों के बारे में हमारे "दक्षिण भारतीय़" दोस्त एक-राय होते हैं और वे खुले-दिल से इन फिल्मों को स्वीकार करते हैं लेकिन हम "उत्तर भारतीय" उन फिल्मों को खिल्ली में उड़ा देते हैं। मेरे हिसाब से यह गलत है और यह नहीं होना चाहिए, लेकिन इससे भी ज्यादा गलत है "उत्तर भारतीय" फिल्मों का पूरे हिन्दुस्तान के लोगों द्वारा मजाक उड़ाया जाना। पहले दक्षिण भारतीय फिल्मों (तमिल, तेलगु, मलयालम, कन्नड़) की बात करते हैं.... मैं मानता हूँ कि इन भाषाओं में बनी कई सारी फिल्में हिंसा के इर्द-गिर्द बुनी होती हैं और कुछ दृश्य कल्पनातीत होते हैं, लेकिन ऐसा क्या इन्हीं फिल्मों में होता है... "हिन्दी" या फिर "अंग्रेजी" फिल्मों में नहीं। अगर सही से देखा जाए तो कौन-सा दृश्य कैसे फिल्माया जाना है, इस मामले में "दक्षिण भारतीय" फिल्में "हिदी" फिल्मों से कई कोस आगे हैं । "हिंदी" फिल्मों में जो आज दिखाया जा रहा है या जो प्रयोग आज किये जा रहे हैं, वैसे प्रयोग तमिल या तेलगु फिल्मों में दसियों साल पहले किए जा चुके हैं। "मार-धाड़" में अतिशय करने की प्रवृत्ति "अंग्रेजी" फिल्मों में भी तो खुलेआम नज़र आती है (मसलन : डाई हार्ड), लेकिन वहाँ तो कोई आश्चर्य नहीं जताता, फिर यहाँ क्यों? मैं इस बात को सराहता हूँ और सच कहिए तो बेहद पसंद करता हूँ कि "तमिल" या "तेलगु" जनता अपने फिल्मों से काफी हद तक जुड़ी रहती है, बस हम "उत्तर भारतीयों" को इन फिल्मों के बारे में अपना नजरिया बदलना है।

अब बात करते हैं अपने "उत्तर भारतीय" फिल्मों की। चूँकि मैं सोनपुर से हूँ जो "छपरा" जिला में आता है, तो इस लिहाज से "भोजपुरी" फिल्मों से इत्तेफ़ाक न रखना असंभव-सा है। मैं आजकल की "भोजपुरी" फिल्मों का उतना बड़ा प्रशंसक नहीं, जितन पिछले दशक की फिल्मों का हूँ, लेकिन हाँ....... मैं इन फिल्मों से (आज-कल की फिल्मों से) नफ़रत नहीं करता। मैं मानता हूँ कि इन फिल्मों का स्तर नीचे गया है, लेकिन इतना भी नीचे नहीं गया कि इनकी बात करना भी "पाप" हो। लोगों ने इन फिल्मों का ऐसा हव्वा बनाया हुआ है कि अगर कोई कहीं "भोजपुरी" बोलता भी दिख जाए तो उससे कोई अश्लील भोजपुरी गाना गाने को कहेंगे (हाँ कुछ अश्लील गाने बने जरूर हैं, लेकिन ऐसे गाने हर भाषा में बनते हैं) या फिर उससे कन्नी काटकर निकल जाएँगे। शायद इसीलिए हमारी यूपी-बिहार की भोजपुरी जनता अपने-आप को शहरी दिखाने के लिए "भोजपुरी" न जानने या फिर "भोजपुरी फिल्में" न देखने का स्वांग रचती हैं, ताकि लोग उन्हें "दूसरी / निकृष्ट" बिरादरी का न समझें। "भोजपुरी" की आज जो हालत है, उसमें इन "भोजपुर के नालायक संतानों" का सबसे बड़ा हाथ है। अगर बाहर के लोग हमें नीचा समझते हैं या नीचा दिखाते हैं तो हमारा फ़र्ज़ बनता है कि हम उन्हें "सच्चाई" से अवगत कराकर "सही" रास्ते पर ले आएँ, उन्हें "भोजपुरी" की विशाल संस्कृति के दर्शन करवाएँ। लेकिन तब क्या किया जाए , जब अपने हीं बीच के लोग अपनी माँ (भोजपुरी) को गाली देने लगें या फिर पहचानने से इनकार कर दें, तब तो हम असहाय हीं हो जाएँगे ना और तब दूसरों को हमारी अवहेलना करने से कौन रोकेगा? हममें से जितनों को भी यह लगता है कि "भोजपुरी" अब "पवित्र" नहीं रही (शायद यही सोचकर "घर" के लोग इससे दूर भागते हैं और "बाहर" के लोग इसके मज़े लते हैं) उनसे यह पूछा जाए (हाँ, मुझसे भी यह प्रश्न पूछा जाना चाहिए) कि इस हालत का जिम्मेदार कौन है?

मेरे हिसाब से तो "भोजपुरी" जैसी मीठी और "दिल को छूने वाली" जबान कोई और नहीं (उर्दू इसके आस-पास आती है) । "पारिवारिक फिल्मों" के मामले में इस भाषा का कोई सानी नहीं। मैं आज एक पुरानी फिल्म "माई" देख रहा था। इस फिल्म के एक दृश्य में जब लड़की की शादी होती है तो "शारदा सिन्हा" ("पद्म-श्री" से सम्मानित भोजपुरी की प्रख्यात लोक-गायिका) ब्याह के गीत गाती हैं (हमारे यहाँ ऐसे गीतों से हीं शादी में रौनक आती है)। मैं झूठ नहीं बोल रहा - इस गीत को सुनकर और इस दृश्य का मनन करके मुझे पिछले नवंबर में हुई अपनी बहन की शादी याद आ गई और बरबस हीं आँखों से आँसू आ गए। ऐसा इससे पहले मेरे साथ कभी नहीं हुआ था। तो आप हीं कहिए कि जो फिल्म, जो दृश्य, जो भाषा आपके अंतस को छू जाए वो "अश्लील" या "मज़ाक का पात्र" कैसे हो सकती है? यह बस कुछ लोगों के मन का भ्रम है या फिर कुछ लोगों की अधूरी जानकारी , जिसने इस भाषा की "मधुरता" को अर्श से उठाकर "फर्श" पे डाल दिया है। यही बात मैं "बांग्ला भाषा" और "बांग्ला फिल्मों" के बारे में भी कहना चाहूँगा। न जाने क्यों ज्यादातर लोगों को "बांग्ला भाषा" की बुराई करने से क्या हासिल होता है। ये लोग "बांग्ला फिल्मों" का "क ख ग घ" भी नहीं जानते, लेकिन "फिल्मों" की दुर्गति करने में रैन-दिवस लगे रहते हैं। और यहाँ भी इस दुर्गति में सबसे बड़ा हाथ हमारे कुछ "बंगाली बंधुओं" का हीं हैं। मैंने कई सारी "बांग्ला" फिल्में देखी है (हाल-फिलहाल में "अंतहीन") और मुझे लगता है कि संबंधों को दर्शाने में "बांग्ला" फिल्मों के सामने दूसरी भाषा की फिल्में कहीं नहीं ठहरतीं।

कुल मिलाकर.... मैं बस यही कहना चाहता हूँ कि आप किसी भी भाषा या किसी भी भाषा की फिल्म को अपने "पूर्वाग्रह" या फिर "दुराग्रह" के कारण न नकारें। "नकारने" की इस मनोवृत्ति को आप चाहें जो भी कहें, लेकिन मैं इसे "दोहरी मानसिकता" हीं कहूँगा।
बाकी बातें... अगली मुलाकात में! तब तक के लिए खुदा हाफ़िज़!!

विश्व दीपक
(लेखक हिंदयुग्म के बुनियादी सदस्यों में से एक हैं...कविता और आवाज पन्ने पर खूब कलम चला चुके हैं...बैठक पर पहली दफा आए हैं, संपादक की लाख मिन्नतों के बाद...)

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

14 बैठकबाजों का कहना है :

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

रावण मैंने नहीं देखी, लेकिन 'काइट्स' और 'राजनीति' के पक्ष में मैं खड़ा कतई नहीं हो सकता. और खालिद मोहम्मद को कोसते समय आप वही तर्क दे रहे हैं जो अमिताभ बच्चन अक्सर देते हैं. वे यह नहीं देखते कि फिजा उनकी ज्यादातर फिल्मों से कैसे अच्छी है. वे बस उसे 'फ्लॉप' कहकर महान हो जाना चाहते हैं. एक और तर्क उनके पास होता है कि खालिद मेरे घर पर शराब पीते हैं और फिर मेरी फिल्मों को बुरा बताते हैं. यह सब उनके ब्लॉग पर लिखा है. क्या वे यह कहना चाहते हैं कि उनकी रिश्वत के बावजूद खालिद 'भूतनाथ' को बुरी फिल्म क्यों बता रहे हैं? क्या वे किसी समीक्षक को खाना खिलाकर उसे खरीद लेना चाहते हैं?

दूसरी बात यह भी कि फिजा बिल्कुल बकवास फिल्म हो तब भी यह तर्क किस काम का कि किसी फिल्म को बुरा वही बता सकते हैं जो उससे अच्छी फिल्म बना सकें. फिर तो हर विधा के आलोचक को कलाकार ही होना पड़ेगा.
तीसरी बात, अंग्रेजी या किसी भी भाषा की जिन मसाला फिल्मों का आप उदाहरण दे रहे हैं, उन्हें किसी भी भाषा के समझदार समीक्षक ने कभी क्लासिक नहीं बताया और न ही किसी ने कहा कि भोजपुरी की सब फिल्में अश्लील हैं. लेकिन यह तो मानना ही पड़ेगा कि किसी भी चीज की बाहर के लोगों में वही इमेज बनती है जो बहुतायत की होती है. इसीलिए विदेशी लोग बम्बैया फिल्मों को नाच गाने और शादी ब्याह की मसाला फिल्में ही मानते हैं. लेकिन इससे हिन्दी की सार्थक फिल्मों का महत्व कम नहीं हो जाता. ज लोग, जहां भी हमारी अच्छी फिल्में देखना चाहते हैं, खोजकर देखते हैं. बांग्ला फिल्मों में भी एक बड़ा वर्ग छद्म बौद्धिक फिल्मों का हो गया है लेकिन तब भी वह सिनेमा हमारे देश के सबसे सार्थक सिनेमा में से एक माना जाता है.
आखिरी बात, जिस तरह आप भोजपुरी फिल्मों की खराब इमेज से खफा हैं, वह स्वाभाविक है. ऐसा मुझे और बहुत से लोगों को पंजाबी गानों के लिए भी लगता है, जो बाहर के लोगों के लिए ढोल वाले बेतुके गाने बनकर रह गए हैं. पंजाबी में गुरदास मान और बहुत से दूसरे लोगों ने हर दौर में कमाल का काम किया है लेकिन यह स्वाभाविक है कि इमेज हमेशा मेजोरिटी से ही बनती है. उसके लिए आप बाहर के लोगों को दोषी नहीं ठहरा सकते. आप अच्छी भोजपुरी फिल्में सबको दिखाने की कोशिश कीजिए, हर समझदार आदमी उनको सराहेगा, अगर वे अच्छी होंगी.

विश्व दीपक का कहना है कि -

गौरव,
सिलसिलेवार जवाब दूँ या एक हीं बार में सब कुछ कह दूँ :)

मैं समीक्षक के खिलाफ नहीं (क्योंकि आप भी समीक्षक हैं), लेकिन समीक्षक के आलोचक बनने के खिलाफ हूँ। मैंने कहीं भी ये नहीं कहा कि "काइट्स" और "राजनीति" बहुत अच्छी फिल्म थी, उन्हें सराहा क्यों नहीं गया। मैं बस यही कहना चाहता था कि समीक्षा के दौरान किसी भी कलाकार पे जो व्यक्तिगत आक्षेप लगाए जाते हैं (जिनमें खालिद मोहम्मद माहिर हैं, आप तो उनकी समीक्षाएँ पढते हीं होंगे... नहीं तो एक समीक्षा का लिंक दिया हुआ है, देख लें) वे गलत होते हैं। और "खालिद" कितने बिके हैं, कितने नहीं.. यह कहने की कोई जरूरत नहीं। ये वही महानुभाव हैं, जिन्होंने "सत्या" को बकवास और रद्दी फिल्म कहा था। फिल्म "हिट" होने को मैं "सफल" होना नहीं मानता, लेकिन चूँकि आप भी समीक्षक हैं, इसलिए किसी फिल्म को दिए गए "स्टार" में तो यकीन रखते हीं होंगे। "फ़िज़ा" मुझे पसंद आई थी (मैंने कहीं नहीं लिखा कि फिज़ा अच्छी थी या बुरी) लेकिन फिज़ा को कितने समीक्षकों ने अच्छा कहा था? जवाब खुद-ब-खुद आपको मिल जाएगा। मैंने अमिताभ बच्चन की बातों को कहीं भी "क़ोट" नहीं किह्या, इसलिए मुझपर यह आरोप तो नहीं हीं लगाया जा सकता कि मैं उनका पक्ष लेने के लिए यहाँ बैठा हूँ। मुझे समीक्षकों से (केवल खालिद मोहम्मद हीं क्यों... राजीव मसंद भी) आपत्ति है, और मैं जरूर कहूँगा।

"फिर तो हर विधा के आलोचक को कलाकार ही होना पड़ेगा." - ऐसा जरूरी नहीं है। लेकिन आजकल के आलोचक (आपने सही शब्द इस्तेमाल किया) ऐसे हो गए हैं, जैसे हम क्रिकेट मैच देखने समय होते हैं। सचिन ने शॉट मारा और आउट हो गया, और हम चिल्लाने लगे "अरे इसको तो खेलने हीं नहीं आता..... ये बूढा हो गया है... इसे रिटायर हो जाना चाहिए..." फिर सचिन का इतिहास-भूगाल एक कर दिया। सही शॉट क्या होता है, ये किसी को नहीं पता, लेकिन अपना "कीमती" कमेंट जरूर देंगे। यही चीज मैं नहीं चाहता। मैं चाहता हूँ कि आलोचना करने वाले सुलझी भाषा में किसी भी फिल्म की समीक्षा करें।

अंग्रेजी और भोजपुरी फिल्मों का जिक्र मैंने "समीक्षको" को ध्यान रखकर नहीं किया.. वहाँ मैंने दर्शकों का जिक्र किया है। अंग्रेजी फिल्मों के बारे में और कुछ नहीं कहूँगा, क्योंकि पोस्ट में हीं बहुत कुछ कह दिया है। हाँ, भोजपुरी फिल्मों के लिए कुछ कहना पड़ेगा। मैंने पूरे पोस्ट में "भोजपुरी" की "खराब इमेज" का दोष "बिहार-यूपी" की भोजपुरी जनता के ऊपर हीं डाला है.... बाहर वालों के ऊपर नहीं। इसलिए आपकी यह बात

"उसके लिए आप बाहर के लोगों को दोषी नहीं ठहरा सकते."

सिरे से खारिज हो जाती है।

हाँ, जरूर दिखाऊँगा.. आप मिलो कभी फिर साथ बैठकर देखेंगे :) और साथ हीं में पंजाबी फिल्में भी देखेंगे.. अगर आपको कोई ऐतराज न हो।

"आलेख लिखने का कतई यह अर्थ नहीं होता, कि आपको आपके मनमुताबिक कमेंट्स मिलें। आलेख या कोई बहस तभी सार्थक होती है, जब सारे पक्ष रखें जाएँ।" मेरा लिखना काफी हद तक सार्थक हुआ, क्योंकि इसी बहाने आपका "बैठक" पर आना हुआ।

धन्यवाद,
विश्व दीपक

निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -

कई बड़े विषय एक साथ लेख में विश्वदीपक जी ने डाल दिए हैं इसीलिए फोकस नहीं बन पा रहा.....हालांकि, मैं भी इस बात से कतई सहमत नहीं हूं कि कोई अच्छा आलोचक अच्छा फिल्मकार भी साबित हो...फ्रांस में सिनेमा के इतिहास में फ्रैंक ट्रुफो का नाम आता है, जिन्होंने अपनी आलोचनाओं में अपने दौर के तमाम निर्देशकों को घिसापिटा करार दिया और फिर जब उन्हें फिल्म बनाने का मौका दिया गया तो लाजवाब फिल्में भी बनाईं...
खैर, 'बड़ा' समीक्षक बनने के बाद कलम चलाने की अपनी मजबूरियां और स्वार्थ हैं, जो शायद हम में से कम ही लोग जानते हैं...इसीलिए, उनकी समीक्षा जो तीखी आलोचना बन जाती है, इस पर बहस हो सकती है....रही बात रीजनल सिनेमा के स्तर की तो इस पर बहस का दायरा बड़ा है...कोई मराठी या गुजराती असामी जब भोजपुरी फिल्म बनाएगा तो उसे सिर्फ मुनाफा ही दिखेगा ना....उसने माटी की महक का कोई ठेका तो ले नहीं रखा है....अब भोजपुर की नालायक संतानों ने कितनी भोजपुरी फिल्में बनाईं हैं, इस पर रिसर्च करना होगा...मुझे लगता है कम ही बनाई होंगी...
चलिए इसी बहाने गौरव बैठक पर आए तो सही.....

Divya Prakash का कहना है कि -

HE came
HE Saw
He conquered
दीपक आये छाप छोड़ गए .
गौरव आये छाप छोड़ गए ..
दीपक बस शुरू में जो अपने लिखा है वो Justification देना मुझे सही नहीं लगा बाकि ,,,अपने जो लिखा वो अच्छा लगा ...

विश्व दीपक का कहना है कि -

दिव्य प्रकाश जी,
निखिल जी से मुझे सख्त हिदायत मिल गई है कि आगे से मैं "भूमिका" न बाँधा करूँ। इसलिए अगले आलेखों में आपको "justification" नहीं झेलना होगा :)

-विश्व दीपक

निर्मला कपिला का कहना है कि -

पोस्ट और आपके कमेन्ट्स ओपर कुछ नही कहूँगी कि क्यों कि मै फिलमे बहुत कम देखती हूँ। मगर एक अनुरोध है कि फाँट का साईज हम जैसे बूढे लोगों को ध्यान मे रख कर लिखें इतना लम्बा आलेख पढते -2 आँखों का कचरा बन जाता है। धन्यवाद।

संपादक का कहना है कि -

हा हा हा....आगे से ध्यान रखा जाएगा....वैसे control और + बटन दबाकर लेख बड़ा देख सकती हैं, किसी भी सिस्टम पर.....
जहां तक लेख की लंबाई का सवाल है, तो ये लेखकों के मूड पर है...हम आपकी मदद नहीं कर सकते....

Anonymous का कहना है कि -

gaurav ji aap kahan gum ho gaye.mai bahut samay se aap ko khoj raha hoon. aapki kavita,kahanee padhe huye bahut din ho gaye.please kuchh likhiye apne liye nahee hamare liye. ravi

himani का कहना है कि -

दीपक जी आपकी प्रतिक्रियाओं के माध्यम से आपके शब्दों की बानगी देखने को मिलती रही है जितना जस्टिफआई करके आप प्रतिक्रिया देते है उसी तरह आपने अपना लेख भी लिखा. हालांकि आपने खुद ही कहा कि आगे से आप ये जिस्टिफिकेशन नहीं देंगे लेकिन मुझे तो तमाम विषयों को समेटे हुए एक उलझे-सुलझे लेख से पहले ये मासूम सा जिस्टिफिकेशन पढ़कर बहुत अच्छा लगा। जहां तक आपके दवारा उठाए गए मुद्दे की बात है तो भारतीय दशॆक सिफॆ मनोंरंजन के लिए फिल्म देखने जाते हैं जब मनोंरंजन नहीं मिलता तो वह तमाम बातें बतियाते हैं बस और कुछ नहीं।

डा. अरुणा कपूर. का कहना है कि -

मेरे विचार से दोहरी मानसिकता भी उलटी दिशामें कूच कर रही है....उदाहरण के तौर पर...कोई व्यक्ति अपने गंदे,मोटे, काले बच्चे को सुंदर और होशियार बताता है,लेकिन पडोसी के बच्चे के वैसे ही बच्चे को नालायक और भौन्दू कहता है!...वैसे चाहे दोनों बच्चे एक जैसे ही स्तर के है!

....फिल्मों का भी वही हाल है...लेकिन यहां व्यक्ति अपने बच्चे की बुराई कर रहा है...और पडोसी के वैसे ही बच्चे की प्रशंसा कर रहा है... इस प्रकार से दोहरी मानसिकता उलटी दिशा में जा रही है... यह गलत ही है!

....लेखक के विचारों से सहमत हूं, धन्यवाद!

विश्व दीपक का कहना है कि -

हिमानी जी,
अब मैं क्या करूँ? देखिए ना "दिव्य प्रकाश" जी और "निखिल" जी दोनों कह रहे हैं कि "justification" ज्यादा हो गया। अब "बैठक" पर रहकर "नियंत्रक" से बैर तो नहीं रख सकता ना :) वैसे पोस्ट पसंद करने के लिए तह-ए-दिल से आभार!!

निर्मला जी,
अगली बार से पोस्ट जरूर छोटा रखूँगा, बाकी फोण्ट बड़ा करने का उपाय नियंत्रक साहब ने तो बता हीं दिया है। :)

अरूणा जी,
आपने सही उदाहरण दिया है। यह उल्टे तरीके की दोहरी मानसिकता है। आपने आलेख पसंद किया, इसके लिए बहुत-बहुत शुक्रिया।

-विश्व दीपक

संपादक का कहना है कि -

विश्वदीपक जी,
बैर कैसा भाई....आपने तो मुझे मगरमच्छ बना डाला...अब तो आंसू भी नहीं बना सकता जी.....क्या करूं...दिव्य बाबू, देख रहे हैं ना...

गौरव सोलंकी का कहना है कि -

रवि, मेरी नैतिक ज़िम्मेदारी है कि अपनी गुमशुदगी मिटाऊं, इसलिए आपको अपने ब्लॉग का पता दे रहा हूं. यहां आप मुझे पढ़ सकते हैं. http://merasaman.blogspot.com

Kumar Dev का कहना है कि -

विश्वदीपक जी आपका कथन सौ फीसदी सत्य है
अंग्रेजी संस्कृति और अंग्रेजी फिल्म देख कर समीक्षा करने वालों को हमेशा से ही हिंदी या दक्षिणभारतीय फिल्मो में अंग्रेजी फिमों को छाप दिखाई देती है उनके लिए हमारे फिल्मकारों के रूप में एक नकलची दिखायी देता है l उन्हें तो प्रकाश झा, अनुराग कश्यप जैसे फिल्मकार को अलग विषय पर फिल्म बनाते है या काईट्स या राजनीति या नो स्मोकिंग जैसी फिल्मे भी नक़ल लगती है l वैसे कुछ भी कहिये प्रयोगात्मक फिल्मे थी ये..... और बेहतरीन भी
वैसे आजकल पत्रकारों में समीक्षक बनने का भूत सवार है कोई फिल्मकार महीनों या सालों म्हणत कर अपनी सोच को रुपहले पर्दे पर उतारता है और ये समीक्षक बिरादर के भूखे और टी आर पी के भूखे मीडिया के सियार इक ही पल के किसी भी फिल्मकार की रचना को तबाह कर के रख देते है उस फिल्म के भविष्यनिर्धारक की भूमिका निभाने लगते है और हमारी जो दर्शक पीढ़ी है जो अंग्रेजी संस्कृति से ग्रस्त है वो बिना फिल्म देहे फिल्म समीक्षा पढ़ कर ही उस फिल्म और फिल्मकार की किस्मत का फैसला कर देती है और रही सही कसार पायरेटेड फिल्म के माफिया पूरी कर देते है..........
वैसे मैं भी सोंच रहा हूँ की क्यूँ ना मैं भी फिल्मसमीक्षक बन जाऊं........

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)