Monday, December 29, 2008

आज का कार्टून 29 दिसम्बर 2008



कार्टूनिस्ट- मनु-बेतख्खल्लुस

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 बैठकबाजों का कहना है :

विनय का कहना है कि -

बढ़िया है, हिन्दी युग्म के सभी सदस्यों को नववर्ष की शुभकामनाएँ

सीमा सचदेव का कहना है कि -

मनु जी आपके बनाए चित्र वो कह देते हैं ,जो हम शब्दों मे नहीं कह पाते

संजीव सलिल का कहना है कि -

हिन्दयुग्म उत्सव रहा, रंग-बिरंगा पर्व.
'सलिल' सकल परिवार को, होगा इस पर गर्व.

देख उतरता कर से, करता भृत्य सलाम.
जो आए निज पाँव पर, वह लगता बेदाम.

पोस्टर-बैनर लगाना, है सचमुच पुरुषार्थ.
पेट पालता काम यह, या बनता परमार्थ.

चिटठा की तकनीक में, भारतवासी दक्ष.
हुए चंद सब हो सकें. बहुत बड़ा है लक्ष.

रपट पढी मन को रुची, वर्णनं है जीवंत.
मतभेदों संग कीजिये, मनभेदों का अंत.

व्यंगचित्र मनु के कहें, बिना कहे हर बात.
जो समझे वह हँस पड़े, जो न हँसे वह मात.

'सलिल' विवादों से सदा, चर्चा होती खूब.
रहो विवादों में सदा, चर्चित होगे खूब.

फेंक पुराना लो नया, पश्चिम का गुरुमंत्र.
पलता पूंजीवाद का, 'सलिल' इसी से तंत्र.

हँस ले लो तकनीक पर, तजो न जीवन मूल्य.
जो अपनी जड छोड़ता, हो जाता निर्मूल्य.

प्रकाश बादल का कहना है कि -

कविता रंग भी कहते हैं, वाह वाह वाह क्या बात है मनु भाई! अरे ये मैं ही थोड़े ही कह रहा हूं मुझ से पहले देखिए कितने लोग हैं वाह!

parmatma का कहना है कि -

bahut badhiya laga aasha hai aap aage bhe ease he cartoon aur banayenge

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)